भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अले, छुबह हो गयी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:41, 14 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> अल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अले, छुबह हो गयी
आँगन बहाल लूँ,
मम्मी के कमले की तीदें थमाल लूँ!

कपले ये धूल-भले,
मैले हैं यहाँ पले,
ताय भी बनाना है,
पानी भी लाना है।
पप्पू की छर्ट फटी,
दो ताँके दाल लूँ ।

कलना है दूध गलम,
फिल लाऊँ तोछत नलम,
झट छे इछतोव जला,
बलतन फिल एक चढ़ा।
कल के ये पले हुए आलू उबाल लूँ।

आ गया ‘पलाग’ नया,
काम छभी भूल गया,
जल्दी में क्या कल लूँ,
चुपके छे अब भग लूँ।
छम्पादक दादा के नये हाल-चाल लूँ।