भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवसादी मन! / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:54, 13 फ़रवरी 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सुन रे ओ अवसादी मन!
बहुत नहीं तेरा जीवन ।

हिम गलेगा निश्चय मानो,
मौन भी टूटेगा,
असंवादी जीवन का पहरा
कभी तो छूटेगा।

चुप्पी का है
कोहरा छाया
कुछ नहीं सूझे
मन भरमाया ।

आशा का मन में ये उजाला
किरनें बन फूटेगा।
हिम गलेगा निश्चय मानो,
मौन भी रूठेगा ।