भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अशान्त मन ! / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:09, 19 जुलाई 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अशान्त मन !
बहुत हुआ खेला
बीती पल में
मधुरिम चन्द्रिका
तृषित बेला
रहे प्यासे अधर
लौटा सागर
देके खाली गागर,
चुप न बैठो
कुछ तो है करना
खाली गागर
मिलकर भरना
कुछ हों आँसू
कुछ मधु मुस्कानें
कुछ व्यथाएँ
कुछ हों गीत नए
गाए न गए
जो कभी द्वार पर;
कर दो अब
वह प्यार मुखर
जिसको पाने
अधर भी तरसें
नैना नित बरसें।