Last modified on 8 अगस्त 2019, at 02:20

अहल-ए-दिल को बुला रहा हूँ / शहराम सर्मदी

मुझे वदीअत हुई है
जब तक तुम्हारी आँखें
मक़ाम-ए-बीनाई तक न पहुँचीं
सफ़ेद काग़ज़ की रौशनी को
सियाह अल्फ़ाज़ से मुसलसल छुपाए रख्खूँ

कहा गया है ये क़ौल भी दूँ
जब आँखें ख़ीरा न होंगी
(यानी मक़ाम-ए-बीनाई पर पहुँच जाएँगी)
तो काग़ज़ सियाह करना मैं छोड़ दूँगा

नफ़ी-ए-मौऊद हैं ये अल्फ़ाज़
असल इसबात चश्म-ए-बीना
सफ़ेद काग़ज़ में पढ़ रही हैं
कि हर्फ़-ए-मौऊद भी यही है
मैं सतह-ए-काग़ज़ से अपने अल्फ़ाज़ उठा रहा हूँ
अहल-ए-दिल को बुला रहा हूँ