भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"आँखों में झलकता था सपनों का हरा जंगल / वर्षा सिंह" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= वर्षा सिंह |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <Poem> आँखों में झलकत…)
 
 
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
 
जब आग बनी दुनिया धू-धू वो जला जंगल ।
 
जब आग बनी दुनिया धू-धू वो जला जंगल ।
  
कहते हां कि ख़ुशबू भी  जंगल में ही रहती थी
+
कहते हाँ कि ख़ुशबू भी  जंगल में ही रहती थी
 
ख़ुशबू की कथाओं में मिलता है घना जंगल ।
 
ख़ुशबू की कथाओं में मिलता है घना जंगल ।
  

02:32, 23 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण

आँखों में झलकता था सपनों का हरा जंगल ।
ख़ामोश वो मौसम था देता था सदा जंगल ।

मैं बन के परिंदा जब शाखों पे चहकती थी
छूता था मेरी पलकें ख़्वाबों से भरा जंगल ।

ख़ुदगर्ज़ इरादों से बच भी न कोई पाया
जब आग बनी दुनिया धू-धू वो जला जंगल ।

कहते हाँ कि ख़ुशबू भी जंगल में ही रहती थी
ख़ुशबू की कथाओं में मिलता है घना जंगल ।

रंगों के जहाँ झरने, चाहत के खजाने हों
‘वर्षा’ को उगाना है, फिर से वो नया जंगल ।