भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँख / संतोष अलेक्स

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:31, 15 अप्रैल 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संतोष अलेक्स |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> चश्मेवाला डाक…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चश्मेवाला डाक्टर ने
जाँचने के बाद कहा
जिनके आँख हैं वे देखें
जिनके कान हैं वे सुनें

मेरे मित्र की
एक आँख छोटी है
वह दुनिया को असंतुलित पाता है

माँ की आँखें
प्यार और दीनता भरी है

पिताजी की आखें
दिल की गहराइयों तक उतरती हैं

दृष्टि की सार की खोज में
मैंने प्रेमिका की आँखों में डुबकी लगाई
और दिन दहाड़े अंधा हो गया