भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आंदोलन / मधुप मोहता" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 17: पंक्ति 17:
 
और चलो मत अंगारों पर।
 
और चलो मत अंगारों पर।
 
मेरा लहू बिखर जाएगा
 
मेरा लहू बिखर जाएगा
नारे बनकर दिवारों पर।
+
नारे बनकर दीवारों पर।
  
 
'''(कनु सान्याल के लिए)'''
 
'''(कनु सान्याल के लिए)'''
  
 
</Poem>
 
</Poem>

09:23, 14 मार्च 2020 के समय का अवतरण

मेरी भूख उभर आई है
गड्ढे बन मेरे गालों पर।
मेरी प्यास सिमट आई है
पपड़ी बन सूखे अधरों पर।
मेरा दर्द ढलक आया है,
आंसू बन मेरी अलकों पर।

ओ समाज के ठेकेदारों,
ज्वालामुखी फूट जाएगा
और चलो मत अंगारों पर।
मेरा लहू बिखर जाएगा
नारे बनकर दीवारों पर।

(कनु सान्याल के लिए)