भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंसुओं में रुल गई बाबुल / हरकीरत हकीर

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:42, 26 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरकीरत हकीर }} {{KKCatNazm}} <poem>आंसुओं में र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंसुओं में रुल गई बाबुल
तेरे प्यार की कविता …

है राहों में उदासी
ज़िन्दगी में सूनापन
हार कर थम गए कदम
मन रह गया रीता
आंसुओं में रुल गई बाबुल
तेरे प्यार की कविता …

फूलों की ये शाख कैसे
पैरों में रुल गई
ज़ख्मों के साथ कैसे
पत्ती - पत्ती छिज गई
आ देख जा एक बार बाबुल
दिल टुकड़े- टुकड़े हुआ जाता
आंसुओं में रुल गई बाबुल
तेरे प्यार की कविता …

मौत को उडीकती हूँ
मौत भी आई न
रोती तेरी बेटी किसी ने
सीने से लगाई न
आ सीने से लगा ले बाबुल
गम पीया नहीं जाता
आंसुओं में रुल गई बाबुल
तेरे प्यार की कविता … !!