भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आई हरि जु की पौढी / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:22, 15 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आई हरि जु की पौढी, बधाए लाई मालनिया।
आई हरि जु की पौढी, बधाए लाई मालनिया॥
हरे –हरे गोबर अँगना लिपाए, मालनिया,
मोतियन चौक पुराए, सुघडपति मालनिया।
कुम्भ कलश अमरत भर लाई, मालनिया,
अमुवा की डार झकोरी, सुघडपति मालनिया।
इन चौकन रानी के ईसरदासजी (घर के पुरुष सदस्यों के नाम) बैठे मालनिया,
संग सजन की जाई, सुघडपति मालनिया।
बहन भानजी करें आरतो, मालनिया,
झगडत अपनो नेग, सुघड्पति मालनिया।
देत असीस चलीं घर-घर को, मालनिया,
जिएं तेरे कुवँर कन्हाई, सुघडपति मालनिया।
रहे तेरो अमर सुहाग, सुघडपति मालनिया।
आई हरि जु की पौढी, बधाए लाई मालनिया॥