Last modified on 15 जून 2016, at 03:24

आई है फूलों की बहार / ब्रजभाषा

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:24, 15 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आई है फूलों की बहार, बधाई होवै।
पहली बधाई याके, बाबा कू होवै।
दादी न गाए मंगला चार, बधाई होवै। आई है फूलों...
दुजी बधाई याके, ताऊ कू होवै।
ताई ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै आई है फूलों...
तीजी बधाई याके, चाचा कू होवै।
चाची ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै। आई है फूलों...
चैथी बधाई याके, फूफा कू होवै।
बुआ ने सतिए लगाए बधाई होवै। आई है फूलों...
पाँचवीं बधाई याके, नाना कू होवै।
नानी ने भेजो छुछक आज, बधाई होवै। आई है फूलों...
छटी बधाई याके, मामा कू होवै।
मामी ने गाए मंगलाचार, बधाई होवै। आई है फूलों...
सातवीं बधाई याके, बाबुल कू होवै।
आँगन में छाई खुशियाँ आज, बधाई होवै।
आई है फूलों की बहार, बधाई होवैं।