भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आऊ न आऊ तिम्रो खुशी / चाँदनी शाह

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:53, 25 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= चाँदनी शाह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGe...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आऊ न आऊ तिम्रो खुशी
म त सधैं पर्खि रहुँला
आए पनि म हेरी रहुँला
गए पनि हेरी रहुँला
 
कहिलेकाहिं दृष्टि पनि
मुवाई भन्दा मिठो हुन्छ
कहिलेकाहिं छायाँ पनि
माया भन्दा न्यानो हुन्छ
तिम्रो बाटो छेक्दिन म
देख्नै मात्र पाए पुग्छ
आए पनि हेरी रहुँला
गए पनि हेरी रहुँला
आऊ न आऊ तिम्रो खुशी
म त सधैं पर्खि रहुँला
 
बसन्तमा सबै फूल
फुल्नै पर्छ भन्ने छैन
जिन्दगीमा सबले बाजी
जित्नै पर्छ भन्ने छैन
तिम्रो चित्त खोस्दिन म
हातै मात्र पाए पुग्छ
आए पनि हेरी रहुँला
गए पनि हेरी रहुँला
आऊ न आऊ तिम्रो खुशी
म त सधैं पर्खि रहुँला