भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आएगी आएगी जनता बनाएगी बीएसपी की सरकार / सतबीर पाई

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:05, 2 सितम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सतबीर पाई |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatHaryan...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आएगी आएगी जनता बनाएगी बी.एस.पी. की सरकार
सत्ता पै होगी काबिज...टेक

पी.एम. कांशीराम बणै, तुम लोगों के काम बणै
नहीं कोई भी काली हो, हर घर मैं खुशहाली हो
जो भी ये चाहेगी, करकै दिखाएगी
हम सब का उद्धार, सत्ता पै होगी काबिज...

नीला झण्डा प्यारा है, नेता नेक हमारा है
बात दलितों की करता, हक ऊपर ये मरता
खाली ना जाएगी, ताकत आजमाएगी
बिल्कुल है तैयार, सत्ता पै होगी काबिज...

लेकै एक तूफान चली, लड़ने चुनाव मैदान चली
पर टक्कर मैं जो भी आए, कभी जीतकर ना जाए
ऐसे हराएगी, सबक सिखाएगी
दे कै हार करार, सत्ता पै होगी काबिज...

जोश मैं हर नारी है, आज तुम्हारी बारी है
सतबीर सिंह रहै पाई मैं, मगन रहै कविताई मैं
रंग ये लाएगी, सबको जगाएगी।
करकै न प्रचार, सत्ता पै होगी काबिज...