भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ, प्यारे चंदा / अनुभूति गुप्ता

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:57, 2 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुभूति गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ, प्यारे चंदा आओ,
मेरी झोली में आ जाओ।
तुम्हें झूला झुलाऊँगी मैं,
हलवा तुम्हें खिलाऊँगी मैं।
तुम बिन मेरा आँगन,
उजियारा है बहुत अधूरा।
मन-आंगन को मेरे,
तुम आकर कर दो पूरा।
आओ, प्यारे चंदा आओ,
दीया-बाती तुम बन जाओ।