भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आओ मेरे पास / निदा नवाज़

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:09, 12 फ़रवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निदा नवाज़ |अनुवादक= |संग्रह=बर्फ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ मेरे पास
मैं बताउंगा
कैसे अटक जाता है काँटा
मछली के गले में
और छलनी हो जाता है
एक पूरा समुद्र

आओ मेरे पास
मैं दिखाउंगा
कैसे जलाए जाते हैं
आतंक की आग में
विशवास के सारे मूल्य

आओ मेरे पास
मैं सुनाऊंगा
कैसे सूली चढ़ाया जाता है
अंधों के शहर में सूर्य
और की जाती है पूजा
अँधेरी रात की

आओ मेरे पास
मैं समझाऊंगा
कैसे लुढ़क जाता है
हमारे संविधान का पहिया
संसद जाने वाली सड़क के
बीचो-बीच

आओ मेरे पास
मैं बताउंगा
कैसे चाट रहे हैं
पुलिस प्रशासन के दीमक
बापू के अहिंसा ग्रन्थ का
एक-एक पन्ना.