भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगाज़ की तारीख़ / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:20, 12 फ़रवरी 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=फ़रहत एहसास |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक मुसाफ़िर हूँ
बड़ी दूर से चलता हुआ आया हूँ यहाँ
राह में मझसे जुदा हो गई सूरत मेरी
अपने चेहरे का बस इक धुँधला तसव्वुर है मेरी आँखों में
रास्ते में मेरे कदमों के निशाँ भी होंगे
हो जो मुमकिन तो उन्हीं से
मेरे आगाज़ की तारीख़ सुनो.