भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगि लागे बनवा, जरे परबतवा / स्वामी भिनक राम जी

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:35, 24 अगस्त 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगि लागे बनवा, जरे परबतवा, मोरे लेखे हो साजन जरे नइहरवा।
आवऽ आवऽ बभना, बइठु मोरा अँगना, साचि देहु ना मोरे गुरु के आवनवा।
जिन्हि सोचिहें मोरा गुरु के अवनवा, तिन्हें देबों ना साजन ग्यान के जतनवा।
नैना भरि कजरा, लिलार भरि सेनुरा, मोरा लेखे सतगुरु भइले निरमोहिया।
सिरी भिनक राम स्वामी गावले निरगुनवा, धाई धरबों हो साधु लोग के सरनवा।