भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आग जला / राम सेंगर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:10, 23 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राम सेंगर |अनुवादक= |संग्रह=ऊँट चल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मरने से पहले
इस जीने की कोशिश में
दृश्य के अन्धेरे को
पच्च-पच्च पीटना फ़िजूल !

रक्त में सुलगता है
कण्डा कोई गीला
ख़ुद को बिल्कुल ढीला छोड़ !
इस ठण्डी बालू में
चने नहीं तिड़केंगे
आग जला, मत भट्ठी फोड़ !
आत्मसजग होकर
इस ढाँचे के भीतर घुस
रख सारे ताक पर उसूल !

बिम्ब नए सच की
हर धड़कन से युक्त बना
भहराये होश को सँभाल !
होश, मौन प्रक्रिया है
बात को पकड़ने की
बाक़ी सब जी का जँजाल ।
अनगढ़ता से सिरजा
भाषा का बाँकापन
दिए बिना बातों को तूल ।

मरने से पहले
इस जीने की कोशिश में
दृश्य के अन्धेरे को
पच्च-पच्च पीटना फ़िजूल !