भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आजु सखी प्रातकाल / नारायण स्वामी

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:22, 6 अगस्त 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नारायण स्वामी }} Category:पद <poeM>आजु सखी प्रातकाल, दृग ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजु सखी प्रातकाल, दृग मींडत जगे लाल,
रूप के बिसाल सिंघु, गुनन के जहाज।
कुंडल सौं उरझि माल, मुख पै अलकन को जाल,
भई मैं निहाल निरखि, सोभा को समाज॥