Last modified on 14 दिसम्बर 2010, at 17:19

आज वो भी घर से बेघर हो गया / शीन काफ़ निज़ाम

आज वो भी घर से बेघर हो गया
एक सहरा था समुंदर हो गया

पानियों में अक्स अपने देखता
कल का पापी अब पयम्बर हो गया

मैं रहा चमगादड़ों के गोल[1] में
और वो जंगली कबूतर हो गया

अपनी परछाई के पीछे दौड़ता
वो घने जंगल से बाहर हो गया

कनखजूरे के क़दम बढ़ने लगे
ज़र्रा ज़र्रा जब मुखद्दर[2] हो गया

उससे मिलना मारके[3] से कम न था
चलिए ये भी मारका सर हो गया[4]

शब्दार्थ
  1. झुंड
  2. स्तब्ध
  3. युद्ध
  4. युद्ध निपट गया