भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आटे-बाटे दही चटाके / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:35, 22 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बालकृष्ण गर्ग |अनुवादक= |संग्रह=आ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर में ‘पा-पा पैयाँ’ डोलें,
मधुर तोतली बोली बोलें।

कान पकड़कर ‘चाऊँ-माऊँ’,
पैरों पर हो ‘झू-झू पाऊँ’।

‘आटे-बाटे दही चटाके’,
तरह-तरह के खेल-तमाशे।

‘कानाबाती कुर्र’ करें हम,
हौआ से अब नही डरें हम।

खाते-पीते हैं मनमाना,
अजब-अटपटा गाते गाना।

हैं अपनी मर्जी के मालिक-
हम सब नन्हें-मुन्ने बालक।
[राष्ट्रीय सहारा (लखनऊ), 21 जुलाई 1998]