भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आतिश-दान / सारा शगुफ़्ता

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:46, 22 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सारा शगुफ़्ता }} {{KKCatNazm}} <poem> आतिश-दानो...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आतिश-दानों से
अपने दहकते हुए सीने निकाल लो
वर्ना आख़िर दिन
आग और लकड़ी ओ अशरफ़-उल-मख़्लूक़
बना दिया जाएगा