भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
Change to Roman

आपका अनुरोध

Kavita Kosh से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

translation of rath yoom kahane lag achand by ramdhari singh dinkar plz mail to h_hasin@yahoo.com यदि आप किसी कविता विशेष को खोज रहे हैं तो उस कविता के बारे में आप इस पन्ने पर लिख सकते हैं। कविता के बारे में जितनी सूचना आप दे सकते हैं उतनी अवश्य दें -जैसे कि कविता का शीर्षक और लेखक का नाम।

यदि आप में से किसी के पास इस पन्ने पर अनुरोधित कोई कविता है तो कृपया उसे इस पन्ने के अंत में जोड़ दें -अथवा उसे kavitakosh@gmail.com पर भेज दें। आपका यह योगदान प्रशंसनीय होगा।

इस पन्ने पर से आप कुछ भी मिटायें नहीं |||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||


तुलसीदास का दोहा -
आवत ही हरशै नहीं , नैनं नहीं सनेह |
तुलसी तहा न जाईये , चाहे कंचन बरसे मेह ||
कहाँ से लिया गया है?

वैयक्तिक औज़ार
» रचनाकारों की सूची
» हज़ारों प्रशंसक...

गद्य कोश

कविता कोश में खोज करें

दशमलव / ललित कुमार
(परियोजना सम्बंधी सूचनाएँ)