भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आप की याद आपका ग़म है / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:49, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

आप की याद आपका ग़म है
ज़िन्दगी के लिए ये क्या कम है

ऐ मता-ए-सुकूं के दीवानों!
ज़िन्दगी इज्ताराबे-पैहम है

एक लग्ज़िश में सज गई दुनिया
क्या मुक़द्दस गुनाहे-आदम है

इन दिनों कुछ अजीब आलम है
हर नफस एक महशरे-ग़म है

आज खुल कर न रो सकी शबनम
आज फूलों में ताज़गी कम है

आज तक उसकी उलझनें न गयीं
ज़िन्दगी किसकी ज़ुल्फ़े-पुरखम है

इन दिनों कुछ अजीब आलम है
हर नफ़स एक महसरे-ग़म है

ज़िन्दगी तो नहीं 'हफ़ीज़' कहीं
अब फ़क़त ज़िन्दगी का मातम है