भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आम रसीले / मन्नन द्विवेदी गजपुरी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:33, 10 जुलाई 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पके-पके क्या आम रसीले,
हरे-लाल हैं नीले-पीले!

आँधी अगर कभी आ जाती,
आम हजारों पीट गिराती!

इनको लेकर चलो ताल पर,
वहाँ खूब पानी से धोकर!

सौ-पचास तक खाएँगे हम,
आज न भोजन पाएँगे हम!


’सरस्वती’ पत्रिका के हीरक जयंती विशेषांक में प्रकाशित