भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आय दूती ने बात कही / हनुमानप्रसाद पोद्दार" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

17:01, 10 फ़रवरी 2014 के समय का अवतरण

आय दूती ने बात कही॥
चंद्रावलि की कुंज सिधारे साँवर आजु सही।
सुनत प्रड्डुल्लित भ‌ई राधिका धीरज सहज गही॥
उठी अमित आनंद-लहर उर मानस-सिद्धि लही।
चंद्रावलि सम नहीं कितहुँ को‌उ सुंदरि अन्य मही॥
मधुर सुहासिनि चतुर विलासिनि, गुन-समूह उमही।
मैं नित ही कहती पिय तैं, ’तुम क्यौं न जा‌उ उतही’॥
सुनी नायँ पिय बिनय कबहुँ उलटे मो कूँ उलही।
दूती! भयो विधाता दच्छिन मन की होय रही॥