भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरति कीजै श्रीनटवर की / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:28, 9 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरति कीजै श्रीनटवर की।

गोवर्धन-धर वंशीधर की॥

नन्द-सुवन यसुमतिके लाला,
गोधन-गोपी-प्रिय गोपाला,
देवप्रिय असुरनके काला,
मोहन विश्वविमोहन वर की॥

जय वसुदेव-देवकी-नन्दन,
कालयवन-कंसादि-निकन्दन,
जगदाधार अजय जगबन्दन
नित्य नवीन परम सुन्दर की॥

अकल कलाधर सकल विश्वधर,
विश्वभर कामद करुणाकर,
अजर, अमर, मायिक-मायाहर,
निर्गुण चिन्मय गुण-मन्दिर की॥

पाण्डव-पूत परीक्षित-रक्षक,
अतुलित अहि अघ-मूषक-भक्षक,
जगमय जगत निरीह निरीक्षक,
ब्रह्मा परात्पर परमेश्वर की॥

नित्य सत्य गोलोक-विहारी,
अजाव्यक्त लीला-वपुधारी,
लीलामय लीला-विस्तारी,
मधुर मनोहर राधावर की॥