भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरति श्रीवसुदेव-तनय की / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:30, 9 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हनुमानप्रसाद पोद्दार |अनुवादक= |...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरति श्रीवसुदेव-तनय की।
नन्दकुमार कृष्ण रसमय की॥

षडैश्वर्यमय पुरुष परात्पर,
मायापति महान्‌, मायापर,
विश्वातीत विश्व, विश्वभर,
चिदानन्द-बपु इच्छामय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

अविनाशी, अज, अखिल भुवनपति,
आदि-‌अन्त-विरहित अविगत-गति,
सेवत सतत संत निर्मल-मति,
दीन-शरण्य विशद-‌आशय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

असुरोद्धारक दुष्कृतिनाशक,
स्थापक धर्म, अधर्म-विनाशक,
सदाचार सद्‌‌भाव विकाशक
गो-द्विज-रक्षक महिमामय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

पार्थ-सारथी गीता-गायक,
ज्ञान भक्ति सत्कर्म विधायक,
लोक-संग्रही, लोक-सुनायक,
स्रष्टा, पालक स्वयं प्रलय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

मथुरा कारागार धन्य कर,
प्रकटे चार भुजा आयुध-धर,
देवकि श्रीवसुदेव सुखाकर,
सहज सुहृद, अनुकम्पामय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

ब्रज पधार, कर लीला मञ्जुल,
नन्द-यशोदा-सुखकर सुविमल,
ब्रज-संरक्षक अमित शौर्य-बल,
शुचि सुषमा श्रीनन्दालय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥

परम मधुर रसराज रसिकवर,
ललित त्रिभंग-मधुर मुरलीधर,
गोपी-गो-गोपाल-सुहृदवर,
अमल असीम प्रेम आलय की।
आरति श्रीवसुदेव-तनय की॥