भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलस छोड़ो / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:40, 18 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीनदयाल शर्मा }} {{KKCatBaalKavita}} <poem> मुर्गा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुर्गा बोला- जागो भैया,
बिस्तर में क्यों पड़े हो तुम ।
आलस को अब दूर भगाओ,
सोच रहे हो तुम गुमसुम ।

आलस है हम सबका दुश्मन
नहीं काम करने देता ।
जो भी होता पास हमारे,
उसको भी यह हर लेता ।

बाड़े में भी बोली गैया
बिस्तर में क्यों पड़े हो तुम ।
आलस को अब दूर भगाओ,
सोच रहे हो तुम गुमसुम।

चीं-चीं करती कहे चिरैया,
बिस्तर में क्यों पड़े हो तुम ।
आलस को अब दूर भगाओ,
सोच रहे हो तुम गुमसुम ।

गाड़ी का कहता है पहिया,
बिस्तर में क्यों पड़े हो तुम ।
आलस को अब दूर भगाओ,
सोच रहे हो तुम गुमसुम ।

आलस छोड़ो सबकी मानो
अरे! अब तो उठ जाओ तुम ।
आलस को अब दूर भगाओ,
सोच रहे हो तुम गुमसुम ।