भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलू-गोभी! / विश्वप्रकाश 'कुसुम'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:33, 1 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विश्वप्रकाश 'कुसुम' |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दावत ने है मन ललचाया!
क्या लोगे तुम आलू-गोभी?
क्या खाओगे आलू-गोभी?
गोभी का है स्वाद बढ़ाया!
सबकी यही पुकार-आलू-गोभी
सब करते तकरार-आलू-गोभी!

जैसी गोभी वैसे आलू,
आलू का बन गया कचालू!
‘गोभी-गोभी’ हैं चिल्लाते,
गोभी की हैं धूम मचाते!
गोभी जैसे हो रसगुल्ला,
नरम-नरम खाते अबदुल्ला!

नहीं चाहिए हमें मिठाई,
आलू-गोभी दे दो भाई।