भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलौकिक प्रेम / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:33, 21 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनीष मूंदड़ा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कितनी आस्था के साथ
मेरा हाथ थामे तुम
ले गए थे युमना तट पे
आँखें मूँद
शीश नवाया
दीप जला कर
आरती की
कई सौ दीपों की दीपमालाएँ जल उठी थी
हमारे प्रेम की लौ लिए
एक एक दिया जो हमने छोड़ा था नदी में
फिर मेरा हाथ थामे
डगमगाते कदमों से
तुम नाव में बैठ गए
मुझसे कहा तुमने
आँख मूँद कर मेरा हाथ थामो
शीश नवाओ
और माँगो
यमुना माँ से आज
एक दूसरे का साथ
इस जनम और जन्मजन्मांतर
जैसे कृष्ण ने थामा था
राधा का हाथ
वैसे ही थामना तुम भी मुझे
वैसे ही अपनाना तुम मुझे
मैं श्रद्धा और प्रेम में नतमस्तक
झुक गया आँखे बंद कर
कहा है देवी माँ
एक नया जीवन दे
एक नया शुभारम्भ दे
इस जन्म और जन्म जन्मांतर
का अब साथ दे
हम एक हों
ये आशीर्वाद दे
आँखे खोला तो
तुम्हें देखा
आँखे अश्रुपुरित
मुझे देखती
शायद शुभारंभ था
हमारा, तुम्हारा
जन्म जन्मांतर के सफ़र का आरंभ था।