भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवे अचक मेरी बाखर में / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:44, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आवे अचक मेरी बाखर में, होरी को खिलार॥
डारत रंग करत रस बतियाँ,
सहजहि सहज लगत आवे छतियाँ।
ये दारी तेरौ लगवार॥ होरी को. आवै.

जानत नाहिं चाल होरी की,
समझत बहुत घात चोरी की।
आखिर तो गैयन को ग्वार॥ होरी को. आवै.

गारी देत अगाड़ी आवै,
आपहु नाचै और मोहि नचावै।
देखत ननदी खोले किवार॥ होरी को. आवै.
सालिगराम बस्यों ब्रज जब से,
ऐसो फाग मच्यो नहिं तब ते।
इन बातन पै गुलचा खाय॥ होरी को. आवै.