भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आस्तीनों में न ख़ंजर रखिये / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:53, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

आस्तीनों में न ख़ंजर रखिये
दिल में जो है वही लब पर रखिये

होंट जलते हैं तो जलने दीजे
अपनी आँखों में समंदर रखिये

अपनी परछाईं भी डस लेती है
हर क़दम सोच समझ कर रखिये

किस को मालूम है कल क्या होगा
आज की बात न कल पर रखिये
 
जेब ख़ाली है तो ग़म मत कीजे
दिल बहरहाल तवंगर रखिये

जो महो-साल का पाबंद न हो
कोई ऐसा भी कलेंडर रखिये

हर नज़र संग बदामाँ है यहाँ
आबगीनों को छुपा कर रखिये