भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आस तो काहू की नहिं मिटि जग में / प्रतापकुवँरि बाई" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रतापकुवँरि बाई |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

13:50, 31 जुलाई 2018 के समय का अवतरण

आस तो काहू की नहिं मिटि जग में भये रावण बड़ जोधा।
साँवत सूर सुयोधन से बल से नल से रत बादि बिरोधा॥
केते भये नहिं जाय बखानत जूझ मुये सब ही करि क्रोधा।
आस मिटे परताप कहै हरि-नाम जपेरू बिचारत बोधा॥