भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आहा! / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:10, 16 नवम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

टुकड़ा-टुकड़ा धूप
सर्दी की

बूंद-बूंद खुशियाँ
और
आँसू-आँसू प्यास

दाना-दाना भूख

सचमुच
ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है.

 
मूल राजस्थानी से अनुवाद- मदन गोपाल लढ़ा