भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इंतिज़ार / प्रमिल चन्द्र सरीन 'अंजान'

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:02, 26 सितम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रमिल चन्द्र सरीन 'अंजान' |अनुवा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर इक कली मलूल है हर एक गुल उदास है
फ़ज़ा बुझी बुझी सी है चमन के दिल में यास है

घटा घटा में बिजलियाँ सबा भी बेक़रार है
जली जली सी पत्तियां उदास सब्ज़ा-ज़ार है

उजड़ गये हैं रास्ते फ़लक पे छा गया है ग़म
ज़मीन सोगवार है खुशी को खा गया है ग़म

शजर थके थके से हैं थकी थकी बहार है
हर एक शय को इश्क़ में किसी का इंतिज़ार है

है इंतिज़ार आपका अलम है और यास है
मुझे भी खा गया है ग़म मेरी भी दिल उदास है

कभी मिले थे हम यहां कभी फ़ज़ा में रंग था
घटा घटा में प्यार था यहां खुशी का ढंग था

कभी खिले थे गुल यहां निखार था
कभी यहां बहार थी समां भी खुशगवार था

शजर शजर में रंग था कली कली में ताज़गी
खिली थी फूल की तरह हर एक शय में ज़िन्दगी

ये ज़िन्दगी मेरे लिए अब ऐसा एक बार है
कि तेरे साथ साथ अब क़ज़ा का इंतिज़ार है।