भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इकड़ी-तिकड़ी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:24, 22 सितम्बर 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |संग्रह=उड़न खटोले आ / रमेश तैलंग }} {{KKCa…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इकड़ी-तिकड़ी,
तिकड़म ता ।
हुआ सबेरा,
अब उठ जा ।

इकड़ी-तिकड़ी
तिकड़म-ता ।
दाँत माँज कर,
रोज़ नहा ।

इकड़ी-तिकड़ी
तिकड़म-ता ।
मान बड़ों का,
सदा कहा ।