भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इतवार / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:55, 31 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाज़िम हिक़मत |अनुवादक=अनिल जनवि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज इतवार है
पहली बार मुझे ले जाया जाएगा सूरज की रोशनी में।

और पहली बार मैं जीवन में हक्का-बक्का रह जाऊँगा
कि आकाश मुझसे इतनी दूर है,
इतना नीला है वो,
और इतना विशाल।
 
मैं वहाँ खड़ा रहूँगा बिना हिले-डुले।
फिर मैं बड़ी श्रद्धा के साथ बैठ जाऊँगा वहाँ ज़मीन पर
और उस सफ़ेद दीवार को पढ़ूँगा।

किसे परवाह है उन लहरों की
जिनमें लिपटना चाहता हूँ मैं
मेरे संघर्ष से, आज़ादी से और इस समय मेरी पत्नी से
किसी को क्या लेना-देना
किसे फ़िक्र मेरी ज़मीन की, सूरज की और मेरी...
मैं ख़ुश हूँ, कितना ख़ुश हूँ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय