भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इधर-उधर / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:40, 24 जून 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इधर-उधर क्या देख रहो हो।
आओ मिलकर काम करें हम।।

बात-बात पर झगड़ रहे हो।
आओ मिलकर काम करें हम।।

झगड़ा बढिय़ा बात नहीं है।
आओ मिलकर काम करें हम।।

काम से कभी न कतराएँ हम।
आओ मिलकर काम करें हम।।

काम होगा, नाम भी होगा।
आओ मिलकर काम करें हम।।