भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन गरीबां कै ऊपर इतणा जुल्म क्यूं करा सै / अमर सिंह छाछिया

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:16, 10 अक्टूबर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अमर सिंह छाछिया |अनुवादक= |संग्रह= ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन गरीबां कै ऊपर इतणा जुल्म क्यूं करा सै
हे हे रै बेइमान।...टेक

बिना खता मार्‌या जा इसतै बदी के होगा।
आज नहीं बणा तो इनका फेर कद होगा।
जै गिरफ्तार ना होया तो आगै और भी होगा।
जै नहीं होया रमान्ड तो इनकै याद के होगा।
उन दोषियों की होई सजा वकील खुद आप बणा सै...

इन गरीबां के बारे म्हं भीम अंग्रेजां तै मिल्या सै।
इस आजादी म्हं गरीबां नै के लाभ मिल्या सै।
तैं भी हो आजाद तनै के यो जिकर कर्‌या सै।
एकदम होया शौक इतणा जणूं इनकै डाका पड़ा सै।
इसे बात पै गांधी नै विरोध कर्‌या सै।...

जै तैं न्यारा चालैगा देश म्हं हल्ला माचैगा।
या तो मैं भी जाण गया इस गरीब पै सोठ बाजैगा।
भाई-भाई सभी एक यो जी तै प्यारा लागैगा
सब तै घणी आवै बांस इसमै यो थामनै दुश्मन लागैगा।
पक्का ईलाज होवै भीम जो तनै कह्या सै...

संविधान दिखा भीम के कानून लागैगा।
इस रिजर्व सीट म्हं यो पूंजीपति चक्कर काटैगा।
छुआछात जो करै भींट भी जेल काटैगा।
जिसका बहुमत सरकार उसे का हुकम चालैगा।
उसकी खैर नहीं अमरसिंह जिसने गरीबां पै अटैक करा सै...