भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इसा सुनहरी मौका ल्याया साक्षरता अभियान रै / सतबीर पाई

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:29, 3 सितम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सतबीर पाई |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatHaryan...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इसा सुनैहरी मौका ल्याया साक्षरता अभियान रै
इब इस शिक्षा पै देणा होगा ध्यान रै...टेक

कुछ सीखण पढ़ण लिखण तै ना नाक चढ़ाणा चाहिए
साची मानी बात रै मिलकै हाथ बढ़ाणा चाहिए
पढ़णा और पढ़ाणा चाहिए इसमें के नुकसान रै...

चोर जोर तै लूट सकै ना जितनी तेरी पढ़ाई
जो सै अनपढ़ केश देश मैं बहुत मुश्किल ठाई
सारी जिन्दगी न्यूए बिताई रहकै पशु समान रै...

हर माणस नै घर घर जाकै सबतै बात बताणी
शिक्षा आवै काम खामखां ना पड़ती दिक्कत ठाणी
सारी दुनिया होगी स्याणी तू क्यू होर्या बिरान रै...

भिखारी और व्यापारी लूटैं अनपढ़ ठेठ तनै
फेर अफसर सरकारी लूटै बड़ते ही गेट तनै
करकै ढेठ जा पढ़ण बैठ ना लेट करै अनजान रै...

शिक्षा चाहिए हर घर मैं फेर खुशहाली छावै
पढ़ लिख कै विद्वान जहान मैं ना कदे काल्ली पावै
पाई वाला सतबीर कवाली गावै हो गलतान रै...