भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"इसी चमन में चलें जश्ने याद-ए-यार करें / मख़दूम मोहिउद्दीन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन |संग्रह=बिसात-ए-रक़्स / मख़दू…)
 
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
|रचनाकार=मख़दूम मोहिउद्दीन  
|संग्रह=बिसात-ए-रक़्स / मख़दूम मोहिउद्दीन  
+
|संग्रह=गुले-तर / मख़दूम मोहिउद्दीन  
 
}}
 
}}
 
{{KKCatGhazal‎}}‎
 
{{KKCatGhazal‎}}‎

08:51, 28 अप्रैल 2011 के समय का अवतरण

इसी चमन में चलें जश्ने याद-ए यार करें
दिलों को चाक गरेबाँ को तार-तार करें

शमीम-ए पैरहन-ए यार[1] क्या निसार करें
तुझी को दिल से लगा लें तुझी को प्यार करें

सुनाती फिरती हैं आँखें कहानियाँ क्या-क्या
अब और क्या कहें किस-किस को सोगवार[2] करें

उठो के फुरसते दीवानगी ग़नीमत है
क़फ़स[3] को ले के उड़े गुल को हमकिनार[4] करें

कमाने अबरुए खूबाँ[5] का बाँकपन है ग़ज़ल
तमाम रात ग़ज़ल गाएँ दीदे यार करें

शब्दार्थ
  1. उत्सव के समय पहने जाने वाले प्रेमिका के कपड़े
  2. दुखी
  3. पिंजड़ा
  4. आलिंगन
  5. भौहों की कमान की ख़ूबी