Last modified on 20 दिसम्बर 2017, at 20:02

इस क्षण में / अदोनिस

Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:02, 20 दिसम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अदोनिस |अनुवादक=अनुपमा पाठक |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

क्या खोया हमने, क्या हममें खो चुका था?
वो फासले किसके हैं जिसने दूर किया था हमें
और जो अभी हमें जोड़ रहा है?

क्या हम अब भी एक हैं
या हम टुकड़ों में बंट चुके हैं? ये धूल किंतनी भली है
इसकी उपस्थिति, और मेरा होना, अभी इस क्षण में
एक से हैं.