भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईसुरी की फाग-4 / बुन्देली

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:25, 13 जुलाई 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

उनकी होय न हमसों यारी

उनसों होय हमारी

मन आनन्द गईं मन्दिर में, शिव की मूरत ढारी

परसत चरन मनक मुन्दरी में, मुख की दिसा निहारी

गिरजापति वरदान दीजिए, जौ मैं मनें बिचारी

ईसुर सोचें श्री कृष्ण खों, श्री बृखमान दुलारी


भावार्थ


वे हमसे प्रेम करें या न करें, हम उनसे प्रेम करते हैं । वे मन्दिर में गईं, शिव जी पर जल चढ़ाया, पर अपनी अंगूठी के

नग में जब मुखदशा निहारी (तो अपने चेहरे की जगह उदास-निराश ईसुरी ही दिखाई दिए) । मन्दिर में एक ब्राह्मण को

जाने से कौन रोक सकता है ? वृषमान नन्दिनी की तरह उसने वरदान मांगा कि हे गिरिजापति मेरी मनोकामना पूरी

करो ।