भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उट्ठा है सूए दश्त से बादल ग़ुबार का / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:16, 11 अगस्त 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मेला राम 'वफ़ा' |अनुवादक= |संग्रह=स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उट्ठा है सूए दश्त से बादल ग़ुबार का
वहशी तिरे मनाते हैं मौसम बहार का

ऐ मुहतरिब न सब्र ले मुझ बादाखार का
आया है किन दुआओं से मौसम बहार का

तूफ़ाने-बर्क़-ओ-बाद का मौसम भी ये सही
मौसम है फिर बहार का मौसम बहार का

ऐ अन्दलीब गश न हो फूलों पे इस क़दर
मेहमान चार दिन का है मौसम बहार का

आज़ादियों चमन की हमें भी नसीब थीं
हम से भी साज़गार था मौसम बहार का

क्यों ताइरे-असीरे-क़फ़स तोलता है पर
शायद चमन में आ गया मौसम बहार का

दामन है चाक चाक, गरेबाँ हैं तार तार
मौसम जुनून का है कि मौसम बहार का

क्या रंग लाए वहश्ते-दिवानगाने-इश्क़
क्या गुल खिलाए देखिये मौसम बहार का

दिल जिन के ऐ 'वफ़ा' हैं फसुर्दा मिरी तरह
आयेगा रास क्या उन्हें मौसम बहार का।