भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उम्मीद है कि उनके हम खाकसार होंगे / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:13, 15 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बिन्दु जी |अनुवादक= |संग्रह=मोहन म...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उम्मीद है कि उनके हम खाकसार होंगे।
जो प्रेमियों के प्यारे जीवन अधार होंगे॥
बसे तो उनके प्रेमी लाखों में हजार होंगे।
पर हमसे दीन दुर्बल बस दो ही चार होंगे।
गर बार-बार उनकी नजरों में खवर होंगे॥
फिर भी गुलाम उनके हम निसार होंगे॥
जीतेंगे हम जो उनसे जीवन निसार होंगे।
हारेंगे हम जो उनसे तो गले का हार होंगे।
उनके चरण कि नौका पाकर सवार होंगे।
तो ‘बिन्दु’ भी किसी दिन भवसिंधु पार होंगे॥