भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"उसका अपना ही करिश्मा है फ़सूँ है, यूँ है / फ़राज़" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
|संग्रह=  
 
|संग्रह=  
 
}}
 
}}
{{KKVID|v=EamvElmCLJQ}}
+
{{KKVID|v=c1r8Ie3E83E}}
[[Category:ग़ज़ल]]
+
{{KKCatGhazal}}
 
<poem>
 
<poem>
 
उसका अपना ही करिश्मा है फ़सूँ है, यूँ है
 
उसका अपना ही करिश्मा है फ़सूँ है, यूँ है
 
यूँ तो कहने को सभी कहते है, यूँ है, यूँ है
 
यूँ तो कहने को सभी कहते है, यूँ है, यूँ है
  
जैसे कोई दर-ए-दिल हो पर सितागा कब से
+
जैसे कोई दर-ए-दिल हो पर सिताज़ा कब से
 
एक साया न दरू है न बरू है, यूँ है,  
 
एक साया न दरू है न बरू है, यूँ है,  
  
पंक्ति 19: पंक्ति 19:
 
अब तो दरिया में तलातुम न सकूँ है, यूँ है
 
अब तो दरिया में तलातुम न सकूँ है, यूँ है
  
नासेहा तुझ को खबर क्या कि मुहब्बत क्या है
+
नासेहा तुझको खबर क्या कि मुहब्बत क्या है
 
रोज़ आ जाता है समझाता है, यूँ है, यूँ है
 
रोज़ आ जाता है समझाता है, यूँ है, यूँ है
  
सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है
+
शाइरी ताज़ा ज़मानो की है मामर 'फ़राज़'
तो उसके शहर मे कुछ दिन ठहर के देखते है 
+
ये भी एक सिलसिला कुन्फ़े क्यूँ है, यूँ है, यूँ है
 
+
सुना है रक्त है उसको खराब हालो से
+
तो अपने आप को बर्बाद करके देखते है 
+
 
+
सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उसकी
+
तो हम भी उसकी गली से गुज़र के देखते है
+
 
+
सुना है उसको भी है शेर-ओ-शायरी से शगफ़
+
तो हम भी मोईज़े अपने हुनर देखते है
+
 
+
सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते है
+
ये बात है तो चलो बात करके देखते है
+
 
+
सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती है
+
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते है
+
 
+
सुना है उसकी स्याह चश्मगे कयामत है 
+
सुना है उसको हिरण गश भर के देखते है
+
 
+
सुना है आईना तमसान है ज़मीं उसकी
+
जो सादा दिल है उसे बन सँवर के देखते है
+
 
+
सुना है उसके लबों से गुलाब जलते है
+
तो हम बहार पे इल्ज़ाम कर के देखते है
+
 
+
सुना है उसके बदन की तराश ऐसी है
+
कि फूल अपनी कवाए कतर के देखते है
+
 
+
सुना है उसके शबिस्ताँ से मुत्त्सिल है बहिश
+
वकी उधर के भी जलवे इधर के देखते है
+
+
रूके तो गर्दिशे उसका तवाम करती है
+
चले तो उसको ज़माने ठरके देखते है
+
 
+
कहानियाँ ही सही, सब मुबालहे ही सही
+
अगर वो क्वाब है तामीर कर के देखते है
+
+
अब उसके शहर मे ठहरे याँ कूच कर जाए
+
'फराज़' आओ कि सितारे सबर के देखते है
+
 
</poem>
 
</poem>

10:58, 1 सितम्बर 2013 के समय का अवतरण

यदि इस वीडियो के साथ कोई समस्या है तो
कृपया kavitakosh AT gmail.com पर सूचना दें

उसका अपना ही करिश्मा है फ़सूँ है, यूँ है
यूँ तो कहने को सभी कहते है, यूँ है, यूँ है

जैसे कोई दर-ए-दिल हो पर सिताज़ा कब से
एक साया न दरू है न बरू है, यूँ है,

तुमने देखी ही नहीं दश्त-ए-वफा की तस्वीर
चले हर खार पे कि कतरा-ए-खूँ है, यूँ है

अब तुम आए हो मेरी जान तमाशा करने
अब तो दरिया में तलातुम न सकूँ है, यूँ है

नासेहा तुझको खबर क्या कि मुहब्बत क्या है
रोज़ आ जाता है समझाता है, यूँ है, यूँ है

शाइरी ताज़ा ज़मानो की है मामर 'फ़राज़'
ये भी एक सिलसिला कुन्फ़े क्यूँ है, यूँ है, यूँ है