भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उसकी दुनिया / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:34, 26 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: <poem>उसकी दुनिया दूसरी थी औरो से अलग उसमे सपने थे खूशबू थी हँसी थी स…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी दुनिया दूसरी थी
औरो से अलग
उसमे सपने थे
खूशबू थी
हँसी थी
सफ़ेद कबूतर थे
और भोले खरगोश भी