भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अजनबी के लिए ख़त / निकानोर पार्रा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:31, 19 फ़रवरी 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निकानोर पार्रा  » एक अजनबी के लिए ख़त

जब गुज़र जाएँगे साल,
साल जब गुज़र जाएँगे और
हवा बना चुकी होगी एक दरार
मेरे और तुम्हारे दिलों के बीच;
जब गुज़र जाएँगे साल और रह जाऊँगा मैं
सिर्फ़ एक आदमी जिसने मोहब्बत की,
एक नाचीज जो एक पल के लिए
तुम्हारे होठों का क़ैदी रहा,
बाग़ों में चलकर थक चुका एक बेचारा इंसान मैं,
पर कहाँ होगी तुम?
ओ, मेरे चुंबनों से रची-बसी मेरी गुड़िया!
तुम कहाँ होगी?

मूल स्पानी भाषा से अनुवाद : श्रीकान्त