भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक अवलंब तुम्हीं, प्रभु ! मेरे / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Vibhajhalani (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:42, 5 सितम्बर 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


एक अवलंब तुम्हीं, प्रभु ! मेरे
बाकी सभी मील के पत्थर, छूटें साँझ-सवेरे

मैंने निशि-दिन जड़ प्रवृतिवश
लिया क्षणिक सुख-भोगों में रस
अब सुध हुई, काल डोरे कस
लगा रहा जब फेरे

हे अव्यक्त, अनाम, अनिर्वच !
सोये भी तुम सृष्टि-नियम रच
पर यदि मेरी श्रद्धा हो सच
नींद रहे क्यों घेरे !

नभ की और टकटकी बाँधे
मैं बैठा हूँ पथ पर आधे
रहो मौनव्रत भी यदि साधे
पल तो रहो अँधेरे

एक अवलंब तुम्हीं, प्रभु ! मेरे
बाकी सभी मील के पत्थर, छूटें साँझ-सवेरे