भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक प्यारा-सा गाँव, जिसमें पीपल की छाँव / सुदर्शन फ़ाकिर

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:17, 19 अप्रैल 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुदर्शन फ़ाकिर |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक प्यारा-सा गाँव, जिसमें पीपल की छाँव...
छाँव में आशियाँ था, एक छोटा मकां था
छोड़ कर गाँव को, उस घनी छाँव को
शहर के हो गये हैं, भीड़ में खो गये हैं

वो नदी का किनारा, जिसपे बचपन गुज़ारा
वो लड़कपन दीवाना, रोज़ पनघट पे जाना
फिर जब आयी जवानी, बन गये हम कहानी
छोड़ कर गाँव को, उस उस घनी छाँव को
शहर के हो गये हैं, भीड़ में खो गये हैं
एक प्यारा-सा गाँव, जिसमें पीपल की छाँव...

कितने गहरे थे रिश्ते, लोग थे या फ़रिश्ते
एक टुकड़ा ज़मी थी, अपनी जन्नत वहीं थी
हाय ये बदनसीबी, नाम जिसका गरीबी
छोड़ कर गाँव को, उस घनी छाँव को
शहर के हो गये, भीड़ में खो गये हैं
एक प्यारा-सा गाँव, जिसमें पीपल की छाँव...

ये तो परदेश ठहरा, देश फिर देश ठहरा
हादसों की ये बस्ती, कोई मेला न मस्ती
क्या यहाँ ज़िंदगी है, हर कोई अजनबी है
छोड़ कर गाँव को, उस घनी छाँव को
शहर के हो गये हैं, भीड़ में खो गये हैं
एक प्यारा-सा गाँव, जिसमें पीपल की छाँव...